पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को देख,, किया इ- बाइक का आविष्कार-

0
106

वर्तमान में पेट्रोल डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं. इस महंगाई की मार गरीब तबका बहुत ज्यादा झेल रहा है. लेकिन इस समस्या से तंग आकर एक शख्स ने एक अलग ही प्रकार का आविष्कार किया. तमिलनाडु के रहने वाले ऐस. भास्करण ने यह आविष्कार किया है, पेट्रोल की बढ़ती हुई कीमतों को देखकर एस भास्करण ने एक बाइक का आविष्कार किया है जो कि एक यूनिट बिजली से 50 किलोमीटर तक फर्राटे भर सकती है.

Baskaran creates e bike
अक्सर कहा जाता है कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है यह कहावत एक बार फिर एक मध्यम परिवार से संबंध रखने वाले एस भास्करण ने सच कर दिखाई है. आपको बता दें, एस भास्कर ने इस बाइक को बनाने के लिए कुल ₹20000 खर्च किए हैं, लॉकडाउन के दौरान भास्करण को नौकरी छोड़नी पड़ी थी जिसके कारण उनकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो गई भास्करण मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कर चुके हैं, नौकरी जाने के बाद उन्होंने खेती-बाड़ी को ही अपना कमाई का जरिया बनाया और उसी में मेहनत से जुट गए और इसी दौरान एक इलेक्ट्रिक साइकिल बनाने पर भी शोध करते रहे इसके बाद भास्कर ने 2000 रुपए में पुरानी साइकिल खरीदी और ₹18000 में उससे जुड़े हुए पार्ट्स यानी स्पेयर पार्ट्स खरीदे और ई-बाइक का आविष्कार कर दिया.

Electric cycle that can travel up to 50 kilometers with just one unit of  current | NewsTrack English 1

भास्कर ने बताया कि इसमें इलेक्ट्रिक मोटर बैटरी कंट्रोलर और ब्रेक कट ऑफ स्विच लगाया गया है. भास्कर ने आगे बताया कि बैटरी को एक यूनिट चार्ज करने पर यह बाइक लगभग 50 किलोमीटर तक चल सकती है बास्करण ने यह भी बताया कि जब बैटरी खत्म हो जाए तो आप इस बैटरी को साईकिल में पेडल मारकर भी चार्ज कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस बाइक को बनाने का मेरा अनुभव बेहद अच्छा रहा है और इस बाइक को बनाने के लिए ज्यादा खर्चा भी नहीं आया है और इससे पोलूशन और पेट्रोल दोनों का की समस्या दूर हो गई है.

उन्होंने बताया कि इस बाइक को बनाने में कुल उनके ₹20000 खर्च हुए हैं जोकि भास्करण के मुताबिक कोई ज्यादा बड़ी रकम नहीं है लेकिन इस रकम को खर्च करने के बाद उन्हें काफी सहूलियत मिल रही है जहां लोग पेट्रोल को इतने महंगे दामों में के खरीद रहे हैं वहीं भास्करण अपनी इ-बाइक से काम चला रहे हैं