बेटी की शादी के लिए किसान ने जमा किये थे 2 लाख, कोरोना के जंग में कर दिए दान

0
19

किसान – जिसका हर कमाई उसके खून और पसीने से होता, ये वो शख्स होते है जो सिर्फ मेहनत करके ही कुछ कमा पाते है। कहाँ जाता है के “भारत किसानोंका देश है, अगर किसानन होंगे तो ये देश बर्बाद और भुखमरी में चला जाएगा”। आज के कोरोना के दौर में जितनी ये बातें चरितार्थ हो रही है उतनी ये भी के “जब जब देश पे विपत्ति आयी है, किसानों ने सबसे आगे आकर साथ दिया है।” देखें तो सही मायनो में किसान किसी त्यागमूर्ति से कम नही है।

ऐसे ही एक किसान है “चंपालाल गुर्जर”। मध्यप्रदेश के नीमच जिले के एक छोटे से गांव के निवासी है। पेशे से किसानी करते है। लेकिन इस कोरोना के दौर में उन्होंने जो काम किया है वो काबिले तारीफ है और बेहद खूबसूरत है।

 farmer donated 2 lakh rupees to buy oxygen

चंपालाल अपनी बेटी की शादी करने वाले थे, रिश्ता भी हो गया था। उसके शादी के लिए पैसे इक्कट्ठा किये थे ताकि अपनी बेटी की शादी सही और धूमधाम से कर सके। लेकिन इसी बीच कोरोना का लहर शुरू हो गया। पूरेदेश में लॉकडाउन लग गया। लाखो लोग ऑक्सीजन की कमी से मरने लगे, तब चंपालाल आगे आये। उन्होंने अपने बेटी की शादी के लिए जो 2 लाख जमा किये थे उसे उन्होंने कोरोना मरीजो के लिए ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर मशीन खरीदने के लिए नीमच जिलाधिकारी मयंक अग्रवाल को दान कर दिया। मयंक अग्रवाल को चेक सौंपते हुए उन्होंने कहा के ये पैसे से आप ऑक्सिजन मशीन खरीद लीजिये ताकि मरीजो की जान बचाये जा सके।

 farmer donated 2 lakh rupees to buy oxygen

चंपकलाल मीडिया से बात करते हुए कहा की “हर पिता का सपना होता है के वो अपनी बेटी का शादी अच्छे और धूमधाम से करे, लेकिन इस महामारी के वजह से ये न हो पाया। ऐसे में मैने अपनी बेटी की शादी को यादगार बनाने के लिए ये फैसला किया। अगर मेरे इस पैसो से किसी की जान बचती है तो मुझे बहुत खुशी होगा”। वही उनकी बेटी अनिता कहती है के “पापा ने जो फैसला किया वो बेहद सही है, इन पैसो से अब मरीजो की जान बचेगी”।

चंपालाल के इस कदम की सराहना वहाँ के जिलाधिकारी और गांव वाले भी कर रहे है। कोरोना के दौर में उनका ये कदम बहुत ही प्रशंसनीय है और दूसरे लोगो के लिए भी प्रेरणादायक है।